Digital Baal Mela 2021: शुरू हुई 14 नवंबर की तैयारी, बाल विधानसभा से पहले बच्चों ने लगायी बाल पंचायत, जाहोता गांव में बच्चों ने दिखाया कमाल

jahota
July 26, 2021 Digital Baal Mela

फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित एवं आईडीबीआई बैंक के सह प्रायोजन से आयोजित डिजिटल बाल मेला 2021 सीजन2 में बच्चों का राजनीति सफर अब शुरू हो गया है। 14 नवंबर को राजस्थान विधानसभा के विशेष बाल सत्र में जाने के लिए बच्चे तैयार है। ऐसे में अब बाल विधानसभा से पहले बच्चों ने बाल पंचायत में अपनी यात्रा शुरू कर दी है। पंचायती फैसले के साथ ही ग्रामीण विकास पर बच्चों ने बात करनी शुरू कर दी है। गांवों के विकास राजनीति में हमेशा से ही अहम मुद्दा रहा है ऐसे में वहां स्कूल, कॉलेज, खेलने का मैदान, सड़के, महिला रोजगार, गांवों और शहरों के बीच के अंतर को खत्म करने आदि विषयों पर बच्चों ने अपनी आवाज उठानी शुरू कर दी है।

इसी सिलसिले में कल डिजिटल बाल मेला की टीम राजस्थान के जहोता गांव पहुंची। जहां बच्चों ने बाल पंचायत में अपने सवाल, अपने सुझाव और अपनी राय की बौछार कर दी। करीब 70—80 बच्चों ने डिजिटल बाल मेला की 'बच्चों की सरकार कैसी हो' अभियान में भाग लिया। अपने वीडियो में सरकार के प्रति अपने विचार दिये। बच्चे बाल राजनीति में शामिल होने के लिए काफी उत्साहित दिखें। 14 नवंबर को विधानसभा के बाल सत्र में जाने को तैयार हो रहे ये बच्चे बाल पंचायत से बाल राजनीति की अहम शुरूआत कर रहे है।

पंचायत है राजनीति का शुरूआती सफर:
बाल राजनीति में शामिल हो रहे बच्चों के लिए बाल पंचायत में शामिल होना एक अनोखा और सबसे मजबूती सफर है। ग्राम पंचायत राजनीति का सबसे अहम पहलू है। गांव का सरपंच राजनीति में लंबी पारी खेलने के लिए विधानसभा और लोकसभा के लिए उम्मीदवार बनता है। अपने क्षेत्र और आस—पास के लोगों के प्रति अपना कर्तव्य निभाकर एक राजनेता देश के हर नागरिक का लीडर बनता है। जमीं से जुड़ी पंचायत समीति राजनीति में शामिल हो रहे उम्मीदवार को लोगों से जोड़ने और उनकी परेशानियों को खत्म करने का सबसे बड़ा अवसर देती है। यही कारण है कि बाल पंचायत से शुरू हुई राजनीति की शुरूआत देश को एक अच्छा राजनेता प्रदान करती है।

जाहोता के ग्राम सरपंच श्याम प्रताप सिंह राठौड़ ने बच्चों को किया प्रोत्साहित:
बाल पंचायत में जोशिले अंदाज में राजनीति की ओर कदम बढ़ा रहे इन बच्चों का जाहोता के ग्राम पंचायत श्याम प्रताप सिंह राठौड़ ने भी गर्मजोशी से स्वागत किया। उन्होंने डिजिटल बाल मेला अभियान के लिए कहा कि —ये बच्चों को सरकार और राजनीति से जोड़ने का अद्धभूत प्रयास है। डिजिटल बाल मेला की ये मुहिम बच्चों के साथ ही देश के हर नागरिक की दुविधा को खत्म करेंगी। बच्चों के लिए बना ये मंच उनके मन के विचारों को बाहर लाने का बेहद ही अनोखा और शानदार अविष्कार है। जिससे बच्चों के मन ​की जिज्ञासाओं का निवारण होगा। देश के हर कोने में उनकी आवाज पहुंचेगी तो देश का विकास तेजी से होगा।

हर गांव—जिले से शामिल हो रहे बच्चे दे रहे अपनी राय:
देश के गांवो के साथ ही डिजिटल बाल मेला हर जिले में अपने पैर पसार रहा है। राजस्थान, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, गुजरात, दिल्ली, असम,बिहार भारत के हर जिले से बच्चे डिजिटल बाल मेला को सरकार के प्रति अपनी राय बता रहे है। सरकार से केंद्र सरकार से सवाल कर रहे है किसानों की, महिलाओं की, बच्चों की सुरक्षा के प्रति सरकार की योजनाओं के बारें में जान रहे है। देश के विकास के लिए किए गये हर फैसले पर अपनी राय बता रहे है, देश के भविष्य पर अपने विचार बता रहे है, अपने सुझाव दे रहे है। देश की राज्य सरकार के कार्यो का आकलन कर रहे है। ऐसे में हर जिले के बच्चे अब अपनी सरकार के काम को लेकर गंभीर हो गये है और किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त करने की फिराक में नहीं है। अब बच्चों की यही सोच उनके ​यही विचार उन्हें राजस्थान विधानसभा ले जानें के लिए तैयार है।

15 जून से शुरू हुआ ये सफर हर दिन बच्चों का नये विषय में ज्ञानवर्धन कर रहा है।ऐसे में अब देशभर के हर जिले से आये बच्चे इस सफर में नया मुकाम हासिल कर रहे है। अब ये मंच ना सिर्फ बच्चों बल्कि उनके अभिभावक, भाई—बहन, टीचर्स,स्कूल को भी लुभा रहा है। 6 से 16 के सरकार के प्रति सोचना अवि​श्वसनीय है। हर रोज राजनेताओं से संवाद कर बच्चों के सवाल उनकी राजनीति में बढ़ रही ​सीख का परिचय दे रहे है। ऐसे में अब कहना मुना​सिब होगा कि राजस्थान विधानसभा में बच्चे अपनी बात कहने के लिए तैयार है।

डि​बेट प्रतियोगिताओं के इन विषयों पर बच्चे बताएं अपनी राय
Digital Baal Mela इन दिनों बच्चे जमकर डिबेट प्रतियोगिता में भाग ले रहे है। 'क्या मोदी सरकार सबसे अच्छी', 'क्या अशोक गहलोत सफल मुख्यमंत्री' या 'क्या योगी आदित्यनाथ सख्त मुख्यमंत्री' पर अपनी राय भेज रहे है। ऐसे में यदि आपके बच्चे ने अभी तक इन विषयों पर अपनी राय साझा करते हुए डिजिटल बाल मेला को अपना वीडियो नहीं भेजा। तो अब देरी ना करें अभी फोन उठाएं और अपने माता—पिता, अपने बड़े भाई—बहन की सहायता लेकर अपना वीडियो रिकोर्ड करें और सीधे डिजिटल बाल मेला को भेज दें।

Digital Baal Mela 2021 की डि​बेट प्रतियोगिता में ऐसे लें भाग:
डिबेट प्रतियोगिता के बारें में जानने के बाद बच्चों के मन में सबसे बड़ा सवाल यही आता है कि वो कैसे इस प्रतियोगिता में भाग लेकर सरकार से अपने मन की बात कर सकते है।तो बच्चे अब चिंता ना करें।वाद—विवाद प्रतियोगिता में शामिल होने की प्रतियोगिता बिल्कुल सरल है।तो आइए जानते है बच्चे कैसे रखें अपना पक्ष:—

  • इस प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए बच्चों को अपना वीडियो बनाना होगा.
  • 6 से 16 साल के बच्चे डिजिटल बाल मेला को अपना वीडियो भेजे.
  • वीडियो को डिजिटल बाल मेला के सोशल प्लेटफॉर्म पर भेजना होगा.
  • बच्चे अपना वीडियो वेबसाइड http://www.digitalbaalmela.com/
    व्हॉटसअप 8005915026
    फेसबुक https://www.facebook.com/digitalbaalmela/
    ट्वीटर https://mobile.twitter.com/DigitalBaalMela
    इंस्टाग्राम https://instagram.com/digitalbaalmela?igshid=fcsq802hctlx पर भेज सकते
    है। बता दें वीडियो में किसी प्रकार की समय पाबंदी नहीं है लेकिन बच्चों को वीडियों में विषय से संबंधित तथ्यों पर बात करना जरूरी है। अपनी बात कहने के साथ वीडियों में बच्चे अपने नाम के साथ स्कूल और शहर का नाम जरूर जोड़े। वही वीडियो में बच्चे #BacchoKiSarkaarKaisiHo मेंशन करें।

Digital Baal Mela की वेबसाइड के साथ अब बच्चे व्हॉटसप पर भी भेज सकते है अपनी एंट्री:
'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बच्चों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा जिसके लिए बच्चे रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइट www.digitalbaalmela.com के साथ ही डिजिटल बाल मेला के व्हॉटसप नंबर 8005915026 पर भी अपनी एंट्री भेज सकते है।

Telegram
WhatsApp