सिवेज प्लांट के लिए डिजिटल बाल मेला की टीम चला रही है मुहिम, जयपुर से जान्हवी शर्मा CM गहलोत को चिट्ठी लिखकर की थी बच्चों के जल संरक्षण अभियान की शुरुआत

March 6, 2021 Digital Baal Mela

डिजिटल बाल मेले में बच्चे अपने-अपने इलाके में सीवेज़ प्लांट पुख्ता करवाने के लिए मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखेंगे. ऐसे में अब बच्चे स्वच्छ जल अभियान की कमान संभालेंगे. इसकी शुरुआत गुलाबी नगरी से जान्हवी शर्मा ने की. जान्हवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की सफलता के लिये स्वच्छ जल जरूरी है. जल शक्ति मंत्री से किये गये वादे को हम पूरा करेंगे. इसके लिए देश के हर हिस्से में बैठे बच्चे इस मुहिम को चलायेंगे.

जल शक्ति मंत्रालय के सच्चे वाटर वारियर बनेंगे:
कोरोना के मुश्किल वक्त में बच्चों को व्यस्त करने के मकसद से शुरु किये गये देश के पहले डिजिटल बाल मेला की टीम ने तय किया है कि वो अब जल शक्ति मंत्रालय के सच्चे वाटर वारियर बनेंगे. जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से किये वादे को पूरा करते हुये बच्चों ने अपने राज्य के मुख्यमंत्री को ये चिट्ठी लिखनी शुरू करने का फैसला किया है.

बच्चों की रचनात्मकता को बनाये रखने के मकसद से किया था शुरू:
गौरतलब है कि कोरोना काल में घर बैठे बच्चों की रचनात्मकता को बनाये रखने के मकसद से जयपुर की जान्हवी शर्मा ने डिजिटल बाल मेला की शुरुआत की. इसका मकसद था राजस्थान के बच्चों को एक नया प्लेटफार्म देना जहां वो अपने बोरडम को दूर कर सके. इस शुरुआत को नाम दिया गया डिजिटल बाल मेला इसलिये दिया गया ताकि बच्चे बाल मेला में डिजिटल माध्यम से शामिल हो सकें. डिजिटल बाल मेला की औपचारिक शुरुआत, 14 नवंबर को राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने की थी. राजस्थान के संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला ने इस digital baal mela की वैबसाइट की लांचिंग की.

https://www.youtube.com/watch?v=Sra_InVTfNE

शेखावत ने बच्चों को पानी की अहमियत समझायी:
5 दिसंबर को डिजिटल बाल मेला की टीम से बात करने जब केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत वर्चुयल मीटिंग में पहुंचे तो उन्होंने बच्चों से एक घंटा बात की. इस दौरान शेखावत ने बच्चों को पानी की अहमियत समझायी तो उनके सवालों के जवाब भी दिये. गजेंद्र सिंह शेखावत ने बच्चों को दो काम भी सौंपे. पहला काम ये कि बच्चे हर दिन अपने घर में 1 लीटर पानी बचाने का काम करेंगे तो दूसरा ये कि साफ पानी की व्यवस्था करने के लिये अपने शहर में सीवेज़ प्लांट को पुख्ता करेंगे. शेखावत ने बच्चों से कहा कि हर बच्चा अपने शहर में सीवेज़ प्लांट स्थापित करने के लिये अपने अपने राज्य के मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखे. केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री ने बच्चों को समझाया कि जितना ज़रुरी पानी बचाना है उतना ही ज़रुरी है उसे साफ रखना. बच्चों के साथ बच्चे बने मंत्री जी ने ये भी माना कि बच्चे जल संरक्षण के बहुत बड़े वाहक बन सकते हैं.

केंद्रीय जल शक्ति मंत्री की बातों को बच्चों ने भी ध्यान से सुना:
बच्चों ने पानी की अहमियत समझकर मंत्री महोदय से वादा किया कि बच्चे इस काम को पूरे देश में करेंगे और सच्चे वाटर वारियर बनेंगे. जल शक्ति मंत्री को किये वादे को पूरा करने के लिये बच्चों ने जहां घर में पानी बचाने के रास्ते तलाशने शुरु कर दिये वहीं मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखने की शुरुआत भी. सबसे पहले ये काम किया डिजिटल बाल मेला की परिकल्पना करने वाली जयपुर की 10 साल की जान्हवी शर्मा.

जान्हवी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्ठी लिखी:
राजस्थान की राजधानी जयपुर में रहने वाली जान्हवी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चिट्ठी लिखी. डिजिटल बाल मेला टीम इस मुहिम को आगे बढ़ायेगी. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ठ्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश सहित दिल्ली और असम के बच्चों ने भी जान्हवी के साथ इस मुहिम को आगे बढ़ाने के लिये अपने अपने मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखने का वादा किया है.

इस मुश्किल वक्त में मुख्यमंत्री अभी किसी से मिल नहीं रहे:
10 दिसंबर को जान्हवी शर्मा राजस्थान के मुख्यमंत्री को ये चिट्ठी डिजिटल बाल मेला के सोशल मीडिया प्लेटफार्म से शेयर की. गौरतलब है कि कोरोना के इस मुश्किल वक्त में मुख्यमंत्री अभी किसी से मिल नहीं रहे हैं. और बच्चों की सुरक्षा के लिये भी ज़रुरी है कि बच्चे अपनी चिट्ठी डिजिटली ही मुख्यमंत्री को भेजें.

Telegram
WhatsApp