डिजिटल बाल मेला – देश में पहली बार कैसी हो बच्चों की सरकार

राजस्थान में आयोजित किया जा रहा ‘’डिजिटल बाल मेला’’ एक बार फिर बच्चों के लिए पेश है। कोरोना के मुश्किल दौर मे बच्चों की प्रतिभा को निखारने का के साथ ही एक नायाब प्लेटफॉर्म की ओर पहुंचा रहा है। बच्चों आपको भी यह जानकर बेहद खुशी होगी कि इस बार डिजिटल बाल मेला आपके के लिए लाया है एक नया प्रतिभावान टास्क – बच्चों की सरकार कैसी हो?

ये देश का पहला नवाचार है जहा बच्चे सरकार के सामने अपनी बात रख सकेंगे। बच्चों के लिये बड़ा मौका है जब उन्हें बाल संसद में शामिल होने का मौका मिलेगा।

बच्चों के लिए ऑनलाइन सेशन आयोजित की जाएगी। जहां बच्चे कोरोना के समय में बोरियत भगाते हुए, तनाव से दूर एक अलग ही दुनिया के सरताज बनेंगे। बाल सभा में बच्चों की बातों को सिर्फ सुना ही नहीं जाएगा अपितु उनकी बाल मन की जिज्ञासा को उत्तर देकर शांत भी किया जाएगा।

बाल मेला के ऑनलाइन सेशन में बच्चे खेल-खेल में एक ऐसा अध्याय पढ़ेंगे जो ना ही उन्हें स्कूल में सीखने को मिलेगा और ना ही घर में…लेकिन डिजिटल बाल मेला बच्चों को घर बैठे ‘बच्चों की सरकार कैसी हो’ के ऑनलाइन सेशन में मंत्रियों, दिग्गज नेताओं और भी सेलिब्रिटी चेहरों से रूबरू करवाएगा। जो बच्चों को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा के साथ मार्गदर्शन करेंगे।

बच्चें क्या सीखेंगे?

क्या आप जानते हैं मुख्यमंत्री का चुनाव कौन करता है?
क्या आप जानते हैं राज्यपाल की नियुक्ति किसके द्वारा होती है?
क्या आप जानते हैं भारत में कितने राज्य हैं
क्या आप जानते हैं भारत के प्रधानमंत्री को कौन चुनता है जैसे ही अनेकों सवालों के जवाब जो खुद जन प्रतिनिधि बच्चों को ऑनलाइन सेशन में देंगे।

बच्चों के लिए टास्क

साथ बच्चों के लिए भी टास्क है…वो है..बच्चों की सोच, बच्चे क्या सोचते हैं बच्चों की सरकार कैसी हो ?
बच्चे अपनी सरकार के बारे में क्या सोचते हैं
बच्चे अपनी सरकार से क्या उम्मीद करते हैं
बच्चे अपनी सरकार तक अपनी बात कैसे पहुंचा सकते हैं
बच्चे अपनी सरकार से क्या मांग करते हैं
बच्चे अपनी सरकार को क्या सुझाव देते हैं
बच्चे अपनी सरकार में कैसे मंत्री चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार में मुख्यमंत्री किसको बनाना चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार में प्रधानमंत्री से कौनसे काम सबसे पहले कराना चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार में कौनसी योजनाएं बनाना चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार से मम्मी को कौनसे अधिकार देना चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार में पापा को कैसा देखना चाहते हैं
बच्चे अपनी सरकार को कहां बैठाना चाहते हैं
बच्चों की सरकार कैसी हो – टीचर के लिये कोई नियम बनाना हो तो या फिर बच्चे अपनी सरकार को कैसे चलाना चाहते हैं।

सवाल और भी हो सकते हैं जो आपके मन में हैं..अगर मैं देश का प्रधानमंत्री होता, अगर मैं मुख्यमंत्री होता, अगर मैं शिक्षा मंत्री होता, अगर में गृह मंत्री होता तो ये काम करता/ऐसा करता-वैसा करता..पर एक शॉर्ट वीडियो बनाना है जो “बच्चों की सरकार कैसी हो” प्रतियोगिता में शामिल होने का हिस्सा है।

हर राज्य-शहर-गांव की प्रतिभा को आगे आने का अवसर मिले इसलिये बाल मेला का आयोजन किया जा रहा है। बाल मेला में शामिल होने के इच्छुक बच्चे मोबाइल से वीडियो बनाकर अपनी एंट्री भेज सकते हैं। कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने बच्चों के जीवन को बहुत प्रभावित किया है। स्कूल, दोस्त और छोटी छोटी खुशियां बच्चों से दूर हो गयी हैं। ऐसे में बच्चों के जीवन में थोडे रंग भरने के मकसद से फ्यूचर सोसायटी ने डिजिटिल बाल मेला की योजना बनायी। डिजिटल बाल मेला में समय-समय पर होने वाली प्रतियोगिता में जीतने वालों बच्चों को कैश अवॉर्ड दिया जायेगा।

प्रक्रिया –

डिजिटल बाल मेला में शामिल होने वाले बच्चों की सोच और “बच्चों की सरकार कैसे हो” के लिए दिए गए सवालों के आकर्षक जवाब द्वारा परिणाम तय किया जाएगा। मूल्यांकन हेतु प्रतियोगिता के लिये तीन लोगों की निष्पक्ष टीम ऑनलाइन परिणाम जारी करेगी। सभी का रिकॉर्ड पारदर्शिता के लिये रखा जायेगा। प्रतियोगिता में तीन चयनित विजेताओं को ऑनलाइन पुरस्कृत किया जायेगा।

प्रथम पुरस्कार – 21000 रुपये
द्वितिय पुरस्कार – 11000 रुपये
तृतीय पुरस्कार – 5100 रुपये
सांत्वना पुरस्कार – 1100 रुपये

प्रथम विजेता को 21000 रुपये, दूसरे को 11000 हजार और तीसरे स्थान पर रहने वाले को 5100 रुपये दिये जायेंगे। सांत्वना पुरस्कार 1100 रुपए होगा।

प्रतियोगिताएं – गतिविधियां

बाल मेला में “बच्चों की सरकार कैसी हो” प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है। प्रतियोगिता का संचालन राष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। बच्चों की सरकार कैसी हो? प्रतियोगिता में बच्चे अपनी सरकार के बारे में क्या सोचते हैं? बच्चे अपनी सरकार से क्या उम्मीद करते हैं? बच्चे अपनी सरकार को क्या सुझाव देते हैं? जैसे अनेक सवालों के जवाब देंगे और टास्क को सकुशल पूरा करने वाले कुछ चुनिंदा बच्चे पहुंचेंगे राज्य की विधानसभा के बाल सत्र में…जहां बच्चों की जिज्ञासा को शांत करेंगे स्पीकर महोदय-विधायक और मंत्री।

डिजिटल बाल मेला का प्रयास है कि बाल मेला सीजन-1st 2020 की की तरह ही 2021 भी बच्चों के लिये यादगार बन जाये।

डिजिटल बाल मेला में कैसे करें रजिस्टर

  • डिजिटल बाल मेला की प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आपको ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा
  • बाल मेला वेबसाइट www.digitalbaalmela.com पर अपने मोबाइल में खोलें
  • वेबसाइट पर आपको Submit Entry का ऑप्शन दिखेगा, यहां क्लिक करने के बाद आपको कुछ जानकारियां देनी है।
  • आपको अपना नाम, पिता का नाम, उम्र, स्कूल का नाम, कक्षा, मोबाइल नंबर, शहर और राज्य का नाम भरना है।
  • फॉर्म में अपनी पसंदीदा प्रतियोगिता का चुनाव भी करें
  • प्रतियोगिता चुनने के बाद नियमानुसार अपनी गतिविधि का 2-3 मिनट का वीडियो बनाएं
  • वीडियो बनाने के बाद ‘फाइल अटैच’ ऑप्शन पर अपनी एंट्री अपलोड करनी है

‘डिजिटल बाल मेला’ से जुडी किसी भी अन्य जानकारी के लिए मेला वेबसाइट और सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़े रहें।

डिजिटल बाल मेला 2020

डिजिटल बाल मेले का आयोजन बाल दिवस 14 नवंबर 2020 से शुरू किया गया था। शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने डिजिटिल बाल मेले की ऑनलाइन लॉचिंग की थी.. जलदाय और ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला ने डिजिटल बाल मेले की वेबसाइट की औपचारिक शुरुआत की। कल्ला के पोते राघव कल्ला ने पहला वीडियो बनाकर पहला रजिस्ट्रेशन कराया था। एक महीने तक चलने वाले डिजिटल मेले में विभिन्न कलाओं/प्रतियोगिताओं के लिए दस अलग-अलग क्षेत्रों का समावेश किया गया था। जिसमें जिनमें पेंटिंग, एक्टिंग, कुकिंग, सिंगिंग, डांसिंग, क्विज़, शॉर्ट फिल्म मेकिंग……शामिल थीं। कोरोना के प्रति जागरूकता’ थीम पर आयोजित हुए बाल मेले में कोरोना से जंग जीतने और जागरूकता बढ़ाने के लिए बच्चों ने अपने टैलेंट के अनुसार पसंदीदा प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर अपने काम का वीडियो मोबाइल से बनाकर प्रतियोगिता की कैटेगरी के अनुसार अपनी एंट्री ऑनलाइन भेज थी। वहीं, विजेताओं को प्रशस्ति पत्र के साथ हर प्रतियोगिता के प्रथम विजेता को 5 हज़ार रुपये, दूसरे को तीन और तीसरे स्थान पर रहने वाले को 2 हज़ार रुपये दिये गए थे।

एक महीने तक चलने वाले डिजिटल मेले में विभिन्न कलाओं/प्रतियोगिताओं के लिए दस अलग-अलग क्षेत्रों का समावेश किया गया था। जिसमें जिनमें पेंटिंग, एक्टिंग, कुकिंग, सिंगिंग, डांसिंग, क्विज़, शॉर्ट फिल्म मेकिंग……शामिल थीं। कोरोना के प्रति जागरूकता’ थीम पर आयोजित हुए बाल मेले में कोरोना से जंग जीतने और जागरूकता बढ़ाने के लिए बच्चों ने अपने टैलेंट के अनुसार पसंदीदा प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर अपने काम का वीडियो मोबाइल से बनाकर प्रतियोगिता की कैटेगरी के अनुसार अपनी एंट्री ऑनलाइन भेज थी। वहीं, विजेताओं को प्रशस्ति पत्र के साथ हर प्रतियोगिता के प्रथम विजेता को 5 हज़ार रुपये, दूसरे को तीन और तीसरे स्थान पर रहने वाले को 2 हज़ार रुपये दिये गए थे।

Digital Baal Mela Guidelines

  • प्रतियोगिता में बच्चे सिर्फ बाल मेला की वेबसाइट के जरिए ही एंट्री ले पायेंगे।

रजिस्ट्रेशन का लिंक : http://www.digitalbaalmela.com/submit-entry/

  • Submit Entry के Select होने पर डिजिटल बाल मेला के सोशल मीडिया पेज पर पोस्ट की जायेगी।
  • Entry Selection की Confirmation बच्चों को सोशल मीडिया पेज पर मिलेगी।
  • एंट्री सेलेक्ट होने के बाद प्रतियोगी की पोस्ट पर सोशल रेस्पॉन्स Like/Share का विजेता सूची में प्रभाव रहेगा
  • प्रतियोगी को डिजिटल बाल मेला के सभी प्लटफॉर्म – FB/Twitter/Instagram/Telegram/YouTube पर जुड़ना अनिवार्य होगा। ( बच्चे घर के किसी भी सदस्य के सोशल अकाउंट के जरिए भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवा सकते हैं )
  • प्रतियोगी को ध्यान रखना है कि वीडियो की अवधि दो मिनट से अधिक नहीं होनी चाहिये
  • वेबसाइट पर एंट्री भरते समय प्रतियोगिता का नाम ‘बच्चों की सरकार कैसी हो’ का चुनाव करना है।
  • वीडियो परफेक्ट फ्रेम, साफ़ आवाज के साथ MP4 फॉर्मेट में होना आवश्यक है। खामियां होने पर एंट्री रद्द की जा सकती है।
  • वीडियो में प्रतियोगी का नाम, क्लास, उम्र, शहर-गांव का नाम, मोबाइल नंबर का उल्लेख करना अनिवार्य है।
  • डिजिटल बाल मेला की ज़रूरी शर्तों और इन नियमों का पालन करना अनिवार्य है।
Telegram
WhatsApp